प्रस्थापीत पक्षातील बहुजन नेतृत्व व कालसापेक्ष भूमिका

June 5, 2016 0

  –राज गवई   एकीकडे अच्छे दिन व भ्रष्टाचार मुक्तीचा नारा देत 2014 च्या लोकसभा निवडणुकीत काँग्रेसला चारमुंड्याचीत करुन भाजपीय महायुतीचे सरकार सत्तेवर आले. शिवाय […]

आत्मा परमात्मा और पुनर्जन्मवादि वेदांत की मूर्खता को बार बार समझना होगा

June 4, 2016 0

  –संजय जोठे   आत्मा परमात्मा और पुनर्जन्मवादि वेदांत की मूर्खता को बार बार समझना होगा। यह भी समझना होगा कि बौद्ध धर्म की मूल […]

जब प्रेम के लिए अवकाश मिल जाए और एक प्रौढ़ सहमति का आभामण्डल प्रेमियों को घेरे हो तब वे बहुत जिम्मेदार हो जाते हैं

June 4, 2016 0

  – संजय जोठे   बीती रात ट्रेन में एक गजब का अनुभव हुआ है। वैसे इस तरह होता रहता है लेकिन ये कुछ ख़ास […]

वाकई गधा, गधा हैं!

June 4, 2016 0

  – रवि रनवीरा   गधे का बोल देना यात्रा के दौरान मंगलमय माना जाता है और यदि कछुआ अंगुलि को पकड़ ले तो गधे […]

आरक्षण हा गरिबी निर्मूलनाचा कार्यक्रम नव्हे

April 2, 2016 0

  –डॉ चक्रधर साठे पाटील   आरक्षण म्हणजे प्रतिनिधित्व ! सत्ता , शिक्षण आणी सम्पत्ती म्हणजेच लोकशाहीमध्ये शासन आणी प्रशासनात जनतेचा प्रत्यक्श सहभाग , हिस्सेदारी […]

मराठी भाषेतून किंवा मातृभाषेतून शिक्षण घ्या या प्रचारामागे ब्राह्मणी कावा आहे

April 2, 2016 0

  –भारत मूलनिवासी   मातृभाषेतून शिक्षण घेतल्याने ते समजते किंवा इंग्रजी भाषेतून शिकल्याने संपूर्ण विकास होत नाही असे म्हणणे किंवा इंग्रजी भाषेतून शिक्षण घेतल्याने विकास […]

1 2 3 4 9